कोस्टा का गोवा मूल का होना गर्व की बात : लक्ष्मीकांत पारसेकर

Panaji: Portuguese Prime Minister Antonio Costa meets Goa Chief Minister Laxmikant Parsekar in Panaji on Jan 11, 2017. (Photo: IANS)

गोवा के मुख्यमंत्री लक्ष्मीकांत पारसेकर ने बुधवार को कहा कि यह गर्व की बात है कि गोवा मूल का एक व्यक्ति पुर्तगाल का राष्ट्राध्यक्ष है। पारसेकर विपक्षी पार्टियों द्वारा पुर्तगाली प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा से औपनिवेशिक युग के दौरान पुर्तगाल द्वारा गोवा में किए गए अत्याचारों के लिए माफी मांगने के सवाल पर जवाब दे रहे थे।

गोवा के तीन दिवसीय दौरे पर आए कोस्टा से मुलाकात के बाद पारसेकर ने कहा, “इस अर्थ में भी मुझे लगता है कि हम गोवावासियों को गर्व का अनुभव करना चाहिए कि जिन लोगों ने हम पर 450 सालों तक लंबा शासन किया, आज उसी गोवा के मूल का एक व्यक्ति पूरे पुर्तगाल का प्रमुख है।”

उन्होंने कहा, “यह हम सभी के लिए गर्व की बात होनी चाहिए।”

भारतीय सशस्त्र बलों द्वारा साल 1961 में आजाद कराए जाने से पहले गोवा में पुर्तगाल ने 451 सालों तक शासन किया। कोस्टा के पिता कवि एवं लेखक ओरलेंडो कोस्टा गोवा से थे, लेकिन वह युवाकाल में राज्य छोड़कर पुर्तगाल चले गए।

पारसेकर ने कहा कि वह माफी की मांग पर प्रतिक्रिया देकर विवाद नहीं पैदा करना चाहते, लेकिन साथ ही कहा कि कोस्टा को अपने गोवा मूल का होने पर गर्व है।

मुख्यमंत्री ने कहा, “देखिए, मैं चुनावों से पहले विवाद खड़ा करना नहीं चाहता। वास्तव में इन सज्जन (कोस्टा) ने अपने गोवा मूल के होने की बात को गर्व के साथ स्वीकारा और जाहिर किया है।”