82 यूनिकॉर्न, 39 अरब डॉलर की फंडिंग, भारतीय स्टार्टअप नई उचांईयों पर पहुंचा

December 12 2021

टेलीग्राम पर हमें फॉलो करें ! रोज पाएं मनोरंजन, जीवनशैली, खेल और व्यापार पर 10 - 12 महत्वपूर्ण अपडेट।

हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़ें https://t.me/vishvatimeshindi1

चैनल से जुड़ने से पहले टेलीग्राम ऐप डाउनलोड करे

जिस प्रकार हम भारतीय स्टार्टअप के लगातार नई उचांईयों पर पहुंचने का जश्न मना रहे हैं, बीते दो सालों में कई वैश्विक मैक्रो-इकोनॉमिक फैक्टर्स ने इस उपलब्धि को हासिल करने में बड़ी मदद की है। वैश्विक महामारी के कारण सामाजिक स्तर पर डिजिटल परिवर्तन और प्रौद्योगिकी को अपनाया गया है। इसके अलावा, चीन में तकनीकी क्षेत्र के नियामक परिवर्तन/क्रैकडाउन, निजी पूंजी के बड़े पूल की उपलब्धता भारतीय स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र के बढ़ने और अकेले 2021 में रिकॉर्ड 40 यूनिकॉर्न का उत्पादन करने के लिए सभी पॉजिटिव कारक रहे हैं।

अग्रणी स्टार्टअप प्रकाशन आईएनसी42 के आंकड़ों के अनुसार, आज भारत में 82 यूनिकॉर्न हैं, जिनकी कुल फंडिंग 38.4 बिलियन डॉलर (2014 से 4 दिसंबर, 2021 तक) है।

हुरुन रिसर्च इंस्टीट्यूट के अनुसार, भारत इस साल अमेरिका और चीन के बाद दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम बनकर उभरा है।

पीडब्ल्यूसी इंडिया के अनुसार, इस साल तीसरी तिमाही (क्यू3) में, भारतीय स्टार्टअप्स ने 347 सौदों में कुल 10.9 बिलियन डॉलर के निवेश के साथ रिकॉर्ड फंडिंग हासिल की है।

भारत के यूनिकॉर्न वर्तमान में 168 अरब डॉलर से ज्यादा मूल्य के हैं।

पिछले दो वर्षों में भारतीय स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र का युग बन गया है। इसमें दो प्रमुख कार्यक्रम एक दीपिंदर गोयल की अध्यक्षता में फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म जोमैटो के आईपीओ और गिरीश मातृभूमि द्वारा संचालित सॉफ्टवेयर-ए-ए-सर्विस (सास) प्रदाता फ्रेशवर्क्‍स भी शामिल हैं।

एलायंस ऑफ डिजिटल इंडिया फाउंडेशन (एडीआईएफ) के कार्यकारी निदेशक सिजो कुरुविला जॉर्ज ने आईएएनएस को बताया, "एक अन्य कारक जिसने भारतीय स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ाने में योगदान दिया, अब वह स्टार्टअप वास्तव में एक परिसंपत्ति वर्ग में बदल रहा है। इस क्षेत्र में खुदरा सहित निवेशकों के एक बड़े और विविध पूल से ब्याज और पूंजी आकर्षित हुई है, जिसमें पॉलिसीबाजार, नायका के सदस्यता शामिल हुए।"

डेलॉइट इंडिया के केआर सेकर के अनुसार, भारत के लिए मांग और ग्राहक आधार बहुत बड़ा है जो एक बेहतर नेटवर्क और बेहतर दूरसंचार नीति स्टार्टअप्स के विकास का मार्ग प्रशस्त करेगी।

सास-आधारित ईवी और ब्लॉकचैन स्टार्टअप 2022 में पारिस्थितिकी तंत्र के लिए और गति प्रदान कर सकते हैं।

सास स्टार्टअप फरआई के सीईओ और सह-संस्थापक कुशाल नाहटा के अनुसार, फर्मों ने सास समाधान जैसी तकनीकों को अपनाना शुरू कर दिया है जो ग्राहकों की लगातार बदलती मांगों को पूरा करने के लिए बहुत आवश्यक गति प्रदान करते हैं।

नाहटा ने आईएएनएस को बताया, "सास भी निवेशकों के लिए बहुत जरूरी बन गया है, इसलिए बहुत सारी पूंजी की उपलब्धता है। यह ई-कॉमर्स में महामारी से प्रेरित उछाल के साथ, व्यवसायों के ऑनलाइन बदलाव और नवाचार की आवश्यकता के कारण भारतीय स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र में विस्फोट करने के लिए है।"

बीते 5 सालों में, भारत में सॉ़फ्टवेयर-एज-ए-सर्विस फर्मों की संख्या दोगुनी हो गई है । देश में एज-ए-सर्विस फर्म 2025 तक राजस्व में 30 अरब डॉलर तक पहुंचने की ओर अग्रसर हैं।

प्रबंधन परामर्श फर्म बैन एंड कंपनी के अनुसार, भारत में अब 13 एज-ए-सर्विस यूनिकॉर्न हैं और सात से नौ कंपनियों के बीच वार्षिक आवर्ती राजस्व (एआरआर) 10 करोड़ से ज्यादा है। भारतीय एज-ए-सर्विस कंपनियों में निवेश 2021 में बढ़कर 4.5 अरब डॉलर हो गया, जिसमें 2020 से 170 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

नाहटा ने कहा, "हमारा उद्देश्य अमेजन प्राइम जैसी डिलीवरी अनुभव प्रदान करने के लिए व्यवसायों को सशक्त बनाना है और विभिन्न लॉजिस्टिक्स नेटवर्क पर उत्पादों को कैसे वितरित किया जाए इसे फिर से परिभाषित करना है।"

यूज्ड कार रिटेलिंग प्लेटफॉर्म स्पिनी के संस्थापक और सीईओ नीरज सिंह सबसे कम उम्र में यूनिकॉर्न का हिस्सा बन गए हैं। उन्होंने कहा कि विकास की गति नवाचार और प्रौद्योगिकी के साथ हर समय उच्च स्तर पर है, जो हर समस्या का समाधान खोजने का मार्ग प्रशस्त करती है और हर स्मार्ट विचार का निवेश किया जाता है।

सिंह ने आईएएनएस को बताया, "यह पिछले कुछ सालों में काफी बढ़ गया है, विशेष रूप से महामारी के दौरान, लोग अपनी जरूरतों और मूल्य उद्देश्य और गुणवत्ता सेवा को पूरा करने के लिए बेहतर विकल्प तलाश रहे हैं। भारत में स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र में चल रही गति के साथ अवसरों की बाढ़ सी आ गई है।"

फ्रेश टू होम के सीईओ और सह-संस्थापक शान कडाविल ने आईएएनएस को बताया कि ई-किराने में उन्होंने उपभोक्ताओं के व्यवहार में एक बड़ा बदलाव देखा है, जो उन ब्रांड पर भरोसा करते हैं जो स्वच्छ, सीधे स्रोत से खाद्य उत्पादों को मुफ्त देते हैं।

उन्होंने कहा, "पिछले दो सालों में लगभग 5 गुना की हमारी व्यापार वृद्धि इस बात का प्रमाण है कि हाल के सालों में भारत में स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र ने कैसा प्रदर्शन किया है।"

उन्होंने कहा, "महामारी भारत में सभी उद्योगों में ऑनलाइन खरीद की आदतों और डिजिटलीकरण की दिशा में बदलाव को तेज करने का एक महत्वपूर्ण पल रही है।"

क्रेड के संस्थापक कुणाल शाह ने कहा कि विकास के अगले दौर के लिए, कार्यबल में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाने की दिशा में काम करने की जरूरत है।

शाह ने कहा कि "सकल घरेलू उत्पाद का विस्तार और एक मजबूत स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण बहुत कठिन है जब आधी आबादी काम नहीं करती है। ऐसा करने के लिए हमें कार्यबल में शामिल होने के लिए महिलाओं के लिए शिक्षा, अवसरों और सामाजिक / वित्तीय सहायता शुरू करने की जरूरत है।"


Download Vishva Times App – Live News, Entertainment, Sports, Politics & More

  • Source
  • आईएएनएस

FEATURE

MOST POPULAR