स्वयं सहायता समूह से जुड़कर आत्मनिर्भर बनी महिलाओं से संवाद करेंगे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

July 30 2021

टेलीग्राम पर हमें फॉलो करें ! रोज पाएं मनोरंजन, जीवनशैली, खेल और व्यापार पर 10 - 12 महत्वपूर्ण अपडेट।

हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़ें https://t.me/vishvatimeshindi1

चैनल से जुड़ने से पहले टेलीग्राम ऐप डाउनलोड करे

यूपी में गन्ना उत्पादन हो या कोरोना काल में मास्क व पीपीटी किट हर मुकाम पर प्रदेश सरकार स्वयं सहायता समूह से जुड़ी महिलाओं को आत्मनिर्भर और स्वावालंबी बना रही है। स्वयं सहायता समूह की महिलाओं से शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वर्चुअल कार्यक्रम के दौरान संवाद करेंगे।

इस दौरान मुख्यमंत्री 40 हजार स्वयं सहायता समूह को रिवाल्विंग फंड से 15 हजार रुपए प्रति समूह व 2606 समूहों को कम्युनिटी इन्वेंस्टमेंट फंड से 1.10 लाख रुपए प्रति समूह जो कुल 88.86 करोड़ रुपए जारी करेंगे। मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की लाभार्थियों के साथ संवाद भी करेंगे।

उत्तर प्रदेश सरकार स्वयं सहायता समूह से जोड़ कर महिलाओं के आत्मनिर्भर बनाने सपना साकार कर रही है। सरकार की पहल पर उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के जरिए प्रदेश 10 लाख स्वयं सहायता समूह से जुड़कर एक करोड़ से अधिक महिलाएं आत्मनिर्भर बन रही हैं। मिशन शक्ति अभियान के तहत महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने की योगी सरकार की पहल कामयाब साबित हुई है। इसमें उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन बहुत अहम रोल अदा कर रही है।

मिशन के अनुसार उत्तर प्रदेश में महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए करीब 10 लाख स्वयं सहायता समूह काम कर रहे हैं। हर समूह में 10 से 12 महिलाएं जुड़ी हुई हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को वर्चुअली कार्यक्रम के दौरान 40 हजार स्वयं सहायता समूह को रिवाल्विंग फंड जारी करेंगे, जबकि इससे पहले मुख्यमंत्री 97663 स्वयं सहायता समूह को रिवाल्विंग फंड जारी कर चुके हैं। शुक्रवार को होने वाले कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री अनुपूरक पुष्टाहार के उत्पादन व आपूर्ति के सापेक्ष फतेहपुर व उन्नाव की महिलाओं को एकीकृत बाल विकास सेवा द्वारा प्रति ईकाई 45.60 लाख रुपए चेक द्वारा प्रदान करेंगे।

बुंदेलखंड में 8 हजार समूह की महिलाएं बालिनी मिल्क प्रोडयूसर कंपनी बनाकर 21 हजार लीटर दुग्ध का संग्रह कर रही हैं। वहीं, 15 लाख से अधिक महिलाओं को खेती व पशुपालन का प्रशिक्षण हासिल कर आर्थिक रूप से सु²ढ़ हुई है। कोरोना काल के दौरान स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने 1.23 करोड़ मास्क व 50 हजार से अधिक पीपीटी किटों का निर्माण किया। इससे उनकी आमदनी में बढ़ोत्तरी हुई। मिशन के अनुसार स्वयं सहायता समूह से जुड़ी महिलाएं मास्क, परिषदीय विद्यालय के बच्चों के यूनिफार्म, पीपीटी किट, आंगनबाड़ी समेत अन्य सरकार की योजनाओं से जुड़ कर आत्मनिर्भर बनी हैं।

Download Vishva Times App – Live News, Entertainment, Sports, Politics & More

  • Source
  • आईएएनएस

FEATURE

MOST POPULAR