भारतीय शोधकर्ताओं ने निर्माण कचरे से कम कार्बन वाली दीवार सामग्री विकसित की

September 17 2021

टेलीग्राम पर हमें फॉलो करें ! रोज पाएं मनोरंजन, जीवनशैली, खेल और व्यापार पर 10 - 12 महत्वपूर्ण अपडेट।

हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़ें https://t.me/vishvatimeshindi1

चैनल से जुड़ने से पहले टेलीग्राम ऐप डाउनलोड करे

 भारतीय शोधकर्ताओं ने निर्माण और विध्वंस अपशिष्ट (सीडीडब्ल्यू) और क्षार-सक्रिय बाइंडरों का उपयोग करके ऊर्जा-कुशल दीवार सामग्री का उत्पादन करने के लिए एक तकनीक विकसित की है। इसे 'लो-सी ब्रिक्स' कहा जाता है। इन ईंटों को उच्च तापमान में तपाने की जरूरत नहीं होती और पोर्टलैंड सीमेंट जैसी उच्च-ऊर्जा सामग्री की भी बचत होती है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के एक बयान में गुरुवार को कहा गया है कि प्रौद्योगिकी निर्माण और विध्वंस अपशिष्ट शमन से जुड़ी निपटान समस्याओं को भी हल करेगी।

भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी) के वैज्ञानिकों ने फ्लाई ऐश और फर्नेस स्लैग का उपयोग करके क्षार-सक्रिय ईंटों/ ब्लॉकों के उत्पादन के लिए तकनीक विकसित की है। शोधकर्ताओं की टीम ने क्षार सक्रियण प्रक्रिया के माध्यम से कचरे के निर्माण से कम कार्बन वाली ईंटें विकसित कीं।

विज्ञप्ति में कहा गया है, "सीडीडब्ल्यू की भौतिक-रासायनिक और संघनन विशेषताओं का पता लगाने के बाद, सामग्री का इष्टतम मिश्रण अनुपात प्राप्त किया गया था और फिर 'लो-सी ब्रिक्स' के उत्पादन के लिए उत्पादन प्रक्रिया विकसित की गई थी। इष्टतम बाइंडर अनुपात के आधार पर, संपीडित ईंटों का निर्माण किया गया। ईंटों की इंजीनियरिंग विशेषताओं के हिसाब से जांच की गई।

यह विकास इस तथ्य को देखते हुए महत्वपूर्ण हो जाता है कि परंपरागत रूप से लिफाफों के निर्माण में जली हुई मिट्टी की ईंटों, कंक्रीट ब्लॉकों, खोखले मिट्टी के ब्लॉकों, फ्लाई ऐश ईंटों, हल्के ब्लॉकों आदि से बनी चिनाई वाली दीवारें होती हैं और ये लिफाफे अपने उत्पादन के दौरान ऊर्जा खर्च करते हैं, इस प्रकार कार्बन उत्सर्जन होता है और खनन किए गए कच्चे माल के संसाधनों का उपभोग होता है, जिससे अस्थिर निर्माण होता है।

चिनाई इकाइयों का निर्माण या तो फायरिंग की प्रक्रिया के माध्यम से किया जाता है या पोर्टलैंड सीमेंट जैसे उच्च-ऊर्जा/सन्निहित कार्बन बाइंडरों का उपयोग करके किया जाता है। भारत में ईंटों और ब्लॉकों की वार्षिक खपत लगभग 90 करोड़ टन है। इसके अलावा, निर्माण उद्योग बड़ी मात्रा में (7-10 करोड़ टन प्रतिवर्ष) अपशिष्ट पदार्थ उत्पन्न करता है।

टिकाऊ निर्माण को बढ़ावा देने के लिए चिनाई वाली इकाइयों का निर्माण करते समय दो महत्वपूर्ण मुद्दों के समाधान की जरूरत है - खनन वाले कच्चे माल के संसाधनों का संरक्षण और उत्सर्जन में कमी। बयान में कहा गया है कि नई तकनीक इन दो समस्याओं को दूर करने में मदद करेगी।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग से वित्त पोषण के साथ आईआईएससी-बैंगलोर द्वारा किए गए इस विकास का प्रमुख लाभार्थी सामान्य रूप से निर्माण उद्योग और विशेष रूप से भवन क्षेत्र है।

आईआईएससी बेंगलुरु के प्रोफेसर बी.वी. वेंकटराम रेड्डी ने कहा, "एक स्टार्ट-अप पंजीकृत किया गया है जो आईआईएससी तकनीकी सहायता से कम-सी ईंटों और ब्लॉकों के निर्माण के लिए 6-9 महीनों के भीतर कार्यात्मक होगा। स्टार्ट-अप इकाई प्रशिक्षण, क्षमता निर्माण और प्रदान करने के माध्यम से एक प्रौद्योगिकी प्रसार इकाई के रूप में कार्य करेगी।"


Download Vishva Times App – Live News, Entertainment, Sports, Politics & More

  • Source
  • आईएएनएस

FEATURE

MOST POPULAR