वाराणसी सम्मेलन में 200 से अधिक शहरों के महापौरों के भाग लेने की संभावना

December 16 2021

टेलीग्राम पर हमें फॉलो करें ! रोज पाएं मनोरंजन, जीवनशैली, खेल और व्यापार पर 10 - 12 महत्वपूर्ण अपडेट।

हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़ें https://t.me/vishvatimeshindi1

चैनल से जुड़ने से पहले टेलीग्राम ऐप डाउनलोड करे

 केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय और उत्तर प्रदेश शहरी विकास विभाग 'काशी विश्वनाथ धाम' गलियारे के पुनर्विकास को प्रदर्शित करने के लिए एक महीने तक चलने वाले कार्यक्रम के तहत 17 दिसंबर को वाराणसी में महापौरों का एक सम्मेलन आयोजित करेंगे। सम्मेलन में 200 से अधिक शहरों के महापौरों को आमंत्रित किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महापौरों के सम्मेलन को वर्चुअल तौर पर संबोधित करेंगे। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राज्यसभा सदस्य और राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह को कार्यक्रम का प्रभारी नियुक्त किया है। भाजपा की महिला शाखा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रेखा गुप्ता को इस कार्यक्रम का सह प्रभारी बनाया गया है।

इस सम्मेलन में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी के शामिल होने की संभावना है।

100 से अधिक महापौरों ने इस सम्मेलन के लिए सरकार के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है और अन्य महापौरों को निमंत्रण भेजा जाएगा।

रेखा गुप्ता ने कहा, "देश के सभी महापौरों को निमंत्रण भेजा गया है और हम उम्मीद कर रहे हैं कि वे सभी सम्मेलन में भाग लेंगे। उन्हें प्रधानमंत्री मोदी वर्चुअल तौर पर संबोधित करेंगे। यह सम्मेलन सभी महापौरों को विचारों का आदान-प्रदान करने और दूसरों से सर्वोत्तम अभ्यास सीखने का मौका देगा।"

सूत्रों ने कहा कि काशी विश्वनाथ धाम गलियारे के पहले चरण के बड़े पैमाने पर पुनर्विकास को देखने के लिए महापौर 16 दिसंबर को वाराणसी का शहर का दौरा करने वाले हैं। इस गलियारे का उद्घाटन प्रधानमंत्री मोदी ने 13 दिसंबर को किया था।

उद्घाटन के बाद वाराणसी में भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों का दो दिवसीय सम्मेलन भी आयोजित किया गया।

15 दिसंबर को भाजपा अध्यक्ष जे.पी. नड्डा और सभी मुख्यमंत्री भगवान राम के जन्मस्थान पर पूजा-अर्चना करने अयोध्या गए। सम्मेलन में भाग लेने वाले सभी महापौरों के भी 18 दिसंबर को अयोध्या आने की संभावना है।

Download Vishva Times App – Live News, Entertainment, Sports, Politics & More

  • Source
  • आईएएनएस

FEATURE

MOST POPULAR