ओमिक्रॉन की आशंकाओं से तेल की कीमतें घटीं, रुपया अभी कमजोर रहेगा

December 05 2021

टेलीग्राम पर हमें फॉलो करें ! रोज पाएं मनोरंजन, जीवनशैली, खेल और व्यापार पर 10 - 12 महत्वपूर्ण अपडेट।

हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़ें https://t.me/vishvatimeshindi1

चैनल से जुड़ने से पहले टेलीग्राम ऐप डाउनलोड करे

कोविड-19 के नए स्वरूप ओमिक्रॉन के साथ-साथ विदेशी फंड के आउटफ्लो को लेकर चिंता आने वाले सप्ताह के दौरान भारतीय रुपये को कमजोर बनाए रखेगी।


इसके अलावा, व्यापार घाटा बढ़ने के साथ-साथ अमेरिकी उपायों में कमी की आशंका से मूल्यवृद्धि के लिए उठाए जाने वाले किसी भी कदम में बाधा आने की संभावना है।


हालांकि, तेल की कीमतों में गिरावट अन्य वस्तुओं के दाम में गिरावट को रोके रहेगी।


एडलवाइस सिक्योरिटीज के फॉरेक्स एंड रेट्स प्रमुख सजल गुप्ता ने कहा, "बढ़ते व्यापार घाटे और टेंपर का रुपये पर असर पड़ा। इक्विटी से लगातार एफपीआई की वापसी आईपीओ के प्रवाह से हुई है और यह कुछ और समय तक जारी रह सकती है।"


उन्होंने कहा, "ओमिक्रॉन को समझने में अभी समय लगेगा। हालांकि, भारत को टीकाकरण वाली अपनी बड़ी आबादी से लाभ होना चाहिए।"


पिछले हफ्ते रुपया काफी कमजोर होकर 75.10 पर बंद हुआ था।


एचडीएफसी सिक्योरिटीज के रिटेल रिसर्च के उप प्रमुख देवर्ष वकील ने कहा, "जोखिम की भावना बैकफुट पर है, क्योंकि ओमिक्रॉन की चिंताओं ने विकास में स्थिरता को लेकर अनिश्चितता पैदा कर दी है।"


वकील ने कहा, "रुपया व्यापारी डॉलर इंडेक्स, कच्चे तेल, फंड इनफ्लो और वायरस के नए स्वरूप पर आ रहे समाचारों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, जो दिशात्मक व्यापार के लिए महत्वपूर्ण होगा।"


उन्होंने कहा कि आने वाले सप्ताह में विदेशी मुद्रा बाजार अशांत रहने की संभावना है।


उन्होंने कहा, "रुपये के 74.70 से 75.70 के बीच रहने की उम्मीद है।"


मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के फॉरेक्स एंड बुलियन एनालिस्ट गौरांग सोमैया के अनुसार, "अगले हफ्ते, मार्केट पार्टिसिपेंट्स आरबीआई के पॉलिसी स्टेटमेंट पर नजर रखेंगे और उम्मीद है कि केंद्रीय बैंक उच्च मुद्रास्फीति के संकेतों के बीच नीति को सामान्य करने की प्रक्रिया शुरू कर सकता है। इससे रिवर्स रेपो दर 3.35 प्रतिशत के अपने मौजूदा रिकॉर्ड निचले स्तर से उठ सकती है।"


"आरबीआई के गवर्नर की किसी भी तीखी टिप्पणी से रुपये में बड़ी गिरावट की संभावना है।"


एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज के 'मुद्रा डेस्क' ने कहा, "हमारे पास आरबीआई की नीति है और अगले हफ्ते रिवर्स रेपो दर बढ़ाए जाने की संभावना से यूएसडीएनआर स्पॉट में किसी भी वृद्धि को सीमित किया जा सकता है। इसलिए हम उम्मीद करते हैं कि यूएसडीएनआर स्पॉट 74.70 और 75.50 के बीच दोलन जारी रखेगा। जब तक यह 74.70 से ऊपर ट्रेड करता है, यह अपट्रेंड जारी रखेगा।"


Download Vishva Times App – Live News, Entertainment, Sports, Politics & More

  • Source
  • आईएएनएस

FEATURE

MOST POPULAR