एसपीए के बाद एयरलाइंस के बीच तालमेल की पायलट योजना बना रहा टाटा

October 15 2021

टेलीग्राम पर हमें फॉलो करें ! रोज पाएं मनोरंजन, जीवनशैली, खेल और व्यापार पर 10 - 12 महत्वपूर्ण अपडेट।

हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़ें https://t.me/vishvatimeshindi1

चैनल से जुड़ने से पहले टेलीग्राम ऐप डाउनलोड करे

विभिन्न बाजार क्षेत्रों में प्रतिस्पर्धा करने के लिए अपनी सभी एयरलाइनों के बीच टाटा समूह की योजना तालमेल स्थापित करने की है।


एसपीए लेनदेन के बाद, टाटा के पास दो पूर्ण-सेवा वाहक- विस्तारा और एयर इंडिया के साथ-साथ दो कम लागत वाली एयरलाइंस- एयर इंडिया एक्सप्रेस और एयरएशिया इंडिया और एक ग्राउंड और कार्गो हैंडलिंग कंपनी, एआईएसएटीएस होगी।


इसके अनुसार, इन सभी ब्रांडों को एसपीए के बाद कुछ समय के लिए एक वर्टिकल के तहत स्वतंत्र संस्थाओं के रूप में चलाने की योजना है।


बहरहाल, समूह का इरादा बेड़े प्रबंधन, मार्ग परिनियोजन, उड़ान समय और हवाईअड्डा स्लॉट योजना के संदर्भ में एयरलाइनों के बीच प्रमुख सहक्रियाओं को चलाने का है।


यूएसपी के संदर्भ में, विस्तारा से प्रीमियम सेवाओं का टैग बरकरार रहने की उम्मीद है, जबकि एयर इंडिया मुख्य रूप से प्रमुख अंतरराष्ट्रीय और मेट्रो मार्गो पर ध्यान केंद्रित करेगी।


घरेलू फीडर ट्रैफिक एयरएशिया इंडिया द्वारा संचालित होने की उम्मीद है जिसे एयर इंडिया के बेड़े से कुछ विमान मिल सकते हैं।


इसके अलावा, विलय प्रत्येक एयरलाइन की अनूठी संस्कृति और ब्रांड की उपयुक्तता के अलावा लाभप्रदता, प्रदर्शन और बाजार की स्थिति पर निर्भर करेगा।


योजनाओं के संबंध में, टाटा समूह को भेजे गए एक प्रश्न का उत्तर नहीं दिया गया।


टाटा संस की सहायक कंपनी टैलेस के विनिवेश प्रक्रिया के तहत राष्ट्रीय वाहक के लिए सबसे अधिक बोली लगाने वाले के रूप में उभरने के बाद से यह विकास महत्वपूर्ण हो गया है।


इसने एयर इंडिया एक्सप्रेस और एआईएसएटीएस के साथ एयर इंडिया में केंद्र की 100 प्रतिशत इक्विटी शेयरधारिताके लिए 18,000 करोड़ रुपये के उद्यम मूल्य का हवाला दिया।


18,000 करोड़ रुपये में से, टैलेस एयर इंडिया के कुल 15,300 करोड़ रुपये के कर्ज को बरकरार रखेगा, जबकि बाकी का भुगतान केंद्र को नकद घटक के रूप में किया जाएगा।


केंद्र ने 12,906 करोड़ रुपये का आरक्षित मूल्य निर्धारित किया था।


पिछले शुक्रवार को घोषित किए गए बोली परिणामों के आधार पर, केंद्र दिसंबर के अंत तक टैलेस के साथ एक शेयर खरीद समझौता (एसपीए) करेगा।


कुल मिलाकर, टाटा संस की सहायक कंपनी टैलेस को मानव संसाधन जैसी अन्य संपत्तियों के साथ-साथ 140 से अधिक विमान और साथ ही 8 लोगो मिलेंगे।


बेड़े के संदर्भ में, टाटा को एयर इंडिया के 117 चौड़े बॉडी वाले और संकीर्ण बॉडी वाले और एयर इंडिया एक्सप्रेस के 24 विमान मिलेंगे।


इन विमानों की एक बड़ी संख्या एयर इंडिया के स्वामित्व में है।


यह इन विमानों को 4,000 से अधिक घरेलू और 1,800 अंतरराष्ट्रीय मार्गो पर भी संचालित करेगा।


इसके अतिरिक्त, इसे एयर इंडिया के फ्रीक्वेंट फ्लायर प्रोग्राम तक पहुंच प्राप्त होगी, जिसमें 30 लाख से अधिक सदस्य हैं।




Download Vishva Times App – Live News, Entertainment, Sports, Politics & More 

  • Source
  • आईएएनएस

FEATURE

MOST POPULAR